सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कभी रेल्वे ट्रैक के पास झोपड़-पट्टी मे पला-बढ़ा ,आज बिखेर रहा बॉलीवुड फिल्मो में जलवा

बॉलीवुड का वह हीरो ,जो Real Life में भी हीरो ! गुलाब सलाट इन्ही का नाम हैं। एक ऐसा हीरो जिनका जीवन गरीबी मे बिता।

कहते है ना ,की मेहनत करते है तो कुछ भी असंभव नहीं हैं। यही कहावत गुजराती व बॉलीवुड का उभरता सितारा गुलाब सलाट पर फिट बैठती हैं। मेहनत का रंग क्या होता है यह आप इनसे पुछियें। कभी रेल्वे ट्रैक के पास झुग्गी झोपड़ी मे पला-बढ़ा लड़का आज बॉलीवुड की फिल्मो में काम कर चुके हैं।


झुग्गी से निकल कर एक्टीग तक का सफ़र
गुलाब सलाट का जन्म एक गरीब परिवार के घर में हुआ। बचपन उनका गुजरात के आनन्द शहर की रेल्वे पटरी के पास बनी झुग्गी झोपड़ी मे बीता क्योकि उनके पिताजी तम्मा भाई सलाट एक गरीब मजदुर थे। शुरू में बहुत ही कम दिहाड़ी मजदुरी करके कमा पाते थे। जिसके चलते केवल दो जुन रोटी का ही जुगाड़ हो पाता था।
          
              परन्तु गुलाब ने बचपन से ही एक सफल बॉलीवुड एक्टर बनने का सपना देखना शुरू कर दिया था। गुलाब कहते है "मेरे पिताजी बहुत गरीब थे तथा उनकी एक ही ख्वाहिश थी कि मेरा बेटा बड़ा बनकर एक अच्छा फिल्मों का हीरो बनकर एक्शन  दिखाएं
परिवार में माता-पिता के अलावा तीन बहने और तीन भाई  , फिर भी गुलाब के पिताजी ने गुलाब के सपने को सच करने के लिये रात-दिन मेहनत की। उसे मार्शल आर्ट सिखने के लिए बड़ी रकम देकर एक मार्शल आर्ट इन्स्टीट्युट में दाखिला दिलाया, क्योकि गुलाब के पिताजी का मानना था कि अच्छे फिल्म कलाकार के लिए मार्शल आर्ट की कलाकारी आना जरूरी हैं। पाँच साल तक लगातार मार्शल आर्ट मे अभ्यास करने के बाद , सेकेण्ड डेन बेल्ट की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद डांस क्लास भी लेना शुरू किया। इस तरफ काफी मेहनत के बाद गुलाब ने एक हीरो के लिये आवश्यक स्कील्स चाहिएँ, वो सभी हासिल की। फिल्म में काम के लिए पिताजी के साथ मायानगरी व फिल्मनगरी मुंबई गये।

पहले ही कदम में मिला धोखा !
पिताजी तम्मा भाई फिल्म में काम दिलवाने के सिलसिले मुंबई गये तो उन्हे वहां एक फ्रॉड फिल्म डायरेक्टर अशोक से मुलाकात हुई। उन्होने काम का झांसा देकर 15000/- रूपये नकद लिया । परन्तु काम नही दिया और पैसा लेकर रफूचक्कर हो गया।
इधर-उधर और कोशिश की ताकि कहीं फिल्म मे काम मिल जाये । कोई काम नही मिला और इस तरह से सारी कोशिशे बेकार गई । यहां तक की उपर से 15 हजार रूपये और गंवा चुके थे।  इस तरह से पहले ही कदम में धोखा मिला। उसके बाद गुलाब के पिताजी का देहांत हो गया।
गुलाब को अफसोस था कि वो अपने पापा का सपना पुरा नही कर पाया , इसलिए लगातार भारत के हर कोने के फिल्म डायरेक्टर से मिला। फिर भी कोई काम नही मिला । गुलाब ने हार नहीं मानी। क्योकि उसे विश्वास था की एक दिन जरूर काम मिलेगा।

जय जय जगजननी दुर्गा मां से की शुरूआत
गुलाब को आखिर कार एक सिरियल डायरेक्टर के कॉर्डीनेटर के द्वारा Colours चैनल पर आने वाला धार्मिक सिरियल  जय जय जगजननी दुर्गा माँ मे एक अच्छा रोल मिल गया। बाद मै यह सिरियल Sahara One पर आने लगा। इस तरह से गुलाब का फिल्मी करियर शुरू हुआ।
उसके बाद कभी पीछे मुड़कर नही देखा और लगातार मेहनत करते गया।

गुजराती फिल्मो मे मचाया तहलका
इसके बाद गुलाब की सफलता को देखते हुवें उन्हे कई अच्छे ऑफर्स आने लगे। जिसमें गुजराती फिल्मो का प्रमुख था। 11 गुजराती फिल्मे की, जिनमे कुछ फिल्मों में छोटे रोल निभाये तो कुछ में मुख्य अभिनेता का रोल निभाया।

हिन्दी के अलावा भोजपुरी भी
सबसे बड़ी सफलता गुलाब को तब मिली , जब उसे हिन्दी फिल्मों में काम मिला। सबसे पहली हिन्दी फिल्म सुल्तान प्रॉडक्शन नम्बर 3 थी। उसका बाद मतलबी मूवी की। इस तरह से अबतक 4 हिन्दी फिल्में कर चुके हैं।

हिन्दी के अलावा 2 भोजपुरी फिल्में भी कर चुके हैं। राजू सुपर स्टार और अली द पावर में मुख्य विलन का रोल किया।

यह आ रही अगली फिल्म
हाल ही मार्च 2018 में मीनाक्षी प्रोडक्शन,सुरत की "तेरे इश्क में"  फिल्म मलेशिया में शुट हुई हैं। जो जल्द ही आ रही हैं। इसके अलावा बॉलीवुड डायरेक्टर अबरार खान के निर्देशन में जल्द ही एक और मुवी की शुटीग शुरू होने जा रही हैं।
अणदाराम बिश्नोई

 ↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।
फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।
आखिर शेयर क्यो करे ❔- क्योकी दोस्त इससे हमारा मनोबल बढ़ेगा।हम आपके लिए इसी तरह समय निकाल कर महत्वपुर्ण पोस्ट लाते रहेगे। और दुसरी बड़ा फायदा Knowledge बांटने का पुण्य। इस पोस्ट को शेयर कर आप भी पुण्य के भागीदार बन सकते है। देश का मनो-विकास होगा ।
तो आईये अपना हमारा साथ दीजिए तथा हमें "Subscribes(सदस्यता लेना) " कर ले    अपना ईमेल डालकर।
💪इसी तरह देश हित की कलम की जंग का साथ देते रहे।👊

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह