सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजनीति में पिसता हिंदू !

कांग्रेस की जयपुर रैली महंगाई पर थी, लेकिन राहुल गांधी ने बात हिंदू धर्म की. क्यों ? सब जानते है कि महंगाई इस वक्त ज्वलंत मुद्दा है. हर कोई परेशान है. इसलिए केंद्र की मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने राष्ट्रव्यापी रैली के लिए राजस्थान को चुना. लेकिन बात जो होनी थी, वो हुई नहीं. जो नहीं होनी चाहिए थी, वो हुई.


साफ है कि हिंदुस्तान की राजनीति में धर्म का चोली-दामन की तरह साथ नजर आ रहा है. भारतीय जनता पार्टी मुखर होकर हिंदू धर्म की बात करती है. अपने एजेंडे में हमेशा हिंदुत्व को रखती है. वहीं 12 दिसंबर को जयपुर में हुई कांग्रेस की महंगाई हटाओ रैली में राहुल के भाषण की शुरुआत ही हिंदुत्व से होती है.

राहुल गांधी ने कहा कि गांधी हिंदू थे, गोडसे हिंदुत्ववादी थे. साथ ही खुलकर स्वीकर किय़ा वो हिंदू है लेकिन हिंदुत्ववादी नहीं है. यानी कांग्रेस की इस रैली ने एक नई बहस को जन्म दे दिया है. बहस है- हिंदू बनाम हिंदुत्ववादी. इस रैली का मकसद, महंगाई से त्रस्त जनता को राहत दिलाने के लिए सरकार पर दबाव बनाना था. महंगाई हटाने को लेकर अलख जगाने का था. लेकिन राहुल गांधी के भाषण का केंद्र बिंदु हिंदू ही रहा. 

इधर, राजस्थान बीजेपी ने भी प्रेस वार्ता कर कांग्रेस रैली को लेकर निशाना साधा. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि पेट्रोल और डीजल पूरे भारत में सबसे ज्यादा राजस्थान में महंगा है. ऐसे में केंद्र सरकार को घेरने की बजाय गहलोत सरकार खुद अपने गिरेबान में झांके. मंत्री शेखावत का ये बयान जायज है. खुद के अंदर बिना झांके दूसरे के ऊपर ठीकरा फोड़ना सही नहीं है. 

ये सच है कि भारत की राजनीति धर्म की बिना अधूरी है. इसका उदाहरण जयपुर में हुई कांग्रेस रैली में भी देखने को मिला. बड़ा सवाल ये कि राजनीति का ये स्वरूप बदलेगा कब ? 

अब बात हिंदू और हिंदूत्ववादी की परिभाषा की. असली हिंदू कभी हिंदूत्व से अलग नहीं हो सकता है. क्योंकि ये ऐसा ही है, जैस IIT में पढ़ने वाला कहे कि वो IITian नहीं हैं.

सच कहे तो राहुल गांधी ने अपने सियासी फायदे के लिए गलत ढंग से हिंदुत्व को परिभाषित किया. राहुल गांधी ने कहा कि हिंदू कभी डरता नहीं है. यहां तक ठीक था. लेकिन आगे राहुल गांधी कहते है कि हिंदुत्ववादी, डरता है-झुक जाता है. हिंदुत्ववादी पीछे से छूरा घोंपता है. सब जानते है कि राहुल का ये सियासी हमला था. लेकिन सवाल ये कि सियासत के लिए आखिर कब तक हिंदू धर्म का अपमान होता रहेगा. 

बिना ईंटों के दीवार का निर्माण नहीं हो सकता है. ऐसे ही बिना हिंदुत्व के कोई हिंदू नहीं हो सकता. लेकिन अर्थ को अपने हिसाब से तोड़ मरोड़ कर जनता को भ्रमित करने वाले नेताओं को समझाना, कुत्ते की टेढ़ी पूंछ को सीधी करने जैसा है. 

बहरहाल, जनता खुद को जागरूक होना होगा. नेताओं के भाषणों के मायनों के समझना होगा. भक्त बनकर बिना सोचे समझे बातों को ग्रहण करना छोड़ना होगा. तब कहीं सियासत में सुधार संभव हो सकता है.

- अणदाराम बिश्नोई, पत्रकार

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Thanks to Visit Us & Comment. We alwayas care your suggations. Do't forget Subscribe Us.
Thanks
- Andaram Bishnoi, Founder, Delhi TV

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प

डिग्री के दिन लदे, अब तो स्किल्स दिखाओं और जॉब पाओ

  भारत में बेरोजगारी के सबसे बड़े कारणों में प्रमुख कारण कार्य क्षेत्र के मुताबिक युवाओं में स्किल्स का भी नहीं होना है। साफ है कि कौशल को बढ़ाने के लिए खुद युवाओं को आगे आना होगा। क्योंकि इसका कोई टॉनिक नहीं है, जिसकी खुराक लेने पर कार्य कुशलता बढ़ जाए। स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद युवाओं को लगता है कि कॉलेज के बाद सीधे हाथ में जॉब होगी। ऐसे भ्रम में कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ रहा हर दूसरा स्टूडेंट रहता है। आंखें तब खुलती है, जब कॉलेज की पढ़ाई खत्म होने के बाद बेरोजगारों की भीड़ में वो स्वत :  शामिल हो जाते है। क्योंकि बिना स्किल्स के कॉर्पोरेट जगत में कोई इंटरव्यू तक के लिए नहीं बुलाता है, जॉब ऑफर करना तो बहुत दूर की बात है। इंडियन एजुकेशन सिस्टम की सबसे बड़ी कमी- सिर्फ पुरानी प्रणाली से खिसा-पीटा पढ़ाया जाता है। प्रेक्टिकल पर फोकस बिल्कुल भी नहीं या फिर ना के बराबर होता है। और जिस तरीके से अभ्यास कराया जाता है, उसमें स्टूडेंट्स की दिलचस्पी भी उतनी नहीं होती। नतीजन, कोर्स का अध्ययन के मायनें सिर्फ कागजी डिग्री लेने के तक ही सीमित रह जाते है।   बेरोजगारों की भीड़ को कम करने के लि