तस्वीर-ए-बयां : चौंकिए मत यह कोई नया फैंशन ट्रेंड नही, कुछ और हैं

विशेक विश्नोई जोधपुर के खेजड़ली गांव में बलिदान देने वाले 363 को राष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए 'मिशन 363' चला रहे हैं।

शहीद 363 को पहचाने दिलाने की जिद, Bishnoi samaz, Tree Fair Jodhpur
यह 363 संख्या वृक्षों को बचाने के लिए बलिदानी महिला-पुरूषों की हैं. इन 363 के याद में हर वर्ष विश्व का एकमात्र वृक्ष मेला खेजड़ली जोधपुर में लगता हैं. फोटो में 'बलिदानी 363' को राष्ट्रीय पहचान दिलाने की युवाओं की जिद हैं

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

अच्छे दिन को तरसता किसान

पटरी पर लौट आया प्याज !