सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज की बड़ी खबरें : 14 सितम्बर 2018

आज की बड़ी खबरें,राजस्थान सहित देश-विदेश की बड़ी खबरें जाने शॉर्ट में - latest news  in Hindi

DelhiTV Latest news in Hindi, Aaj Ki Khabar, rajasthan latest news
देश- 

एक निजी न्यूज चैंनल में बोले योगगुरू रामदेव, कहा- मोदी की नौकरियां बीजेपी से पूछो | पंतजली ने 20 हजार युवाओं को पिछले 2 माह में दिया रोजगार - रामदेव

एशिया कप : भारत क पहला मैंच 18 सितम्बर को हांगकांग से | कल धोनी-रोहित सहित 10 खिलाड़ी पहुंचे दुबई | दुसरा मैंच भारत का पाकिस्तान के साथ

नई दिल्ली : डुसू चुनाव में ABVP ने मारी बाजी, अध्यक्ष सहित 3 पदों पर किया कब्जा | NSUI को सिर्फ सचिव पद से ही करना पड़ा संतोष

माल्या-जेटली मुलाकात विवाद : कांग्रेस ने मोदी सरकार पर फिर साधा निशाना | सुरजेवाला ने कहा- मोदी सरकार फ्लीस,फ्लाई और सेटल अब्रॉड की नीति पर ट्रैंवल एंजेसी चला रही हैं

बिहार : नितिश सरकार का फैसला, मॉब लिंचिग मामले का निपटारा होगा 6 माह में | घटना में मारे गये व्यक्ति के परिवार को मिलेगा 3 लाख रूपए

DUSU चुनाव : NSUI ने लगाया इवीएम गड़बड़ी का आरोप, कहा- हम अध्यक्ष सहित चारो सीटें जीत रहें थे | गौरतलब है,  इवीएम मशीन में खराबी आने के बाद ABVP रूझानों में आगे जाने लगी

विदेश-

इस्लामाबाद: भारत और अमेरिका के बीच हुई टू प्लस टू बैंठक से बौखलाया पाकिस्तान | कहा- दो देशों की वार्ता में तीसरें देश का जिक्र क्यों ?

यूएन की रिपोर्ट : भारत में बदले की भावनाओं से मानवाधिकारी कार्यकर्ताओं की होता हैं गिरफ्तारी

1930 के बाद दुनिया की सबसे बड़ी महामंदी को 10 साल पुरे हुए | 2008 में आई थी महांमदी, भारत सहित कई देशों ने सीखे सबक 

घाना : संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोकी अन्नान का दो दिन बाद अंतिम संस्कार | राजधनी में दो दिन तक दर्शन के लिए रखा गया था शव, जूटे दुनिया के कई दिग्गज नेता

समुन्द्र बना प्लास्टिक कचरें का घर, जलीय जीवों पर मडरा रहा खतरा | प्रशान्त महासागर में छेड़ा गया कचरा इकट्ठा करने का अभियान

म्यांमार: देश के दो पत्रकारों की गिफ्तारी को 'आंग सू ची' ने सही ठहराया, कहा- तहकीकात करने नहीं, खुफिया कानून तोड़ने पर हुई थी गिरफ्तारी | पत्रकार रोंहिग्या मुस्लमानों पर कर रहे थे रिपोर्टीग

राजस्थान-

जयपुर : बस में ड्राइवर ने महिला को सरेआम पीटा, वीडियो हुआ वायरल | छोड़ाने के बजाय तमाशबीन बनी बस की सवारियां | कंपनी ने ड्राइवर को नौकरी से निकाला

उदयपुर : 20 सितम्बर से राहुल गांधी करेगे 'महिला अधिकार यात्रा', 5 दिन 5 जिला पहुंचेगी यात्रा | साथ ही  सकल्प यात्रा में शामिल होगे राहुल गांधी

↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह