सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज की बड़ी खबरें : 11 सितम्बर 2018

आज की देश-दुनिया की बड़ी खबरें और राजस्थान की बड़ी खबरें जाने बस एक झलक में-



देश-

1. विपक्ष के भारत बंद का दिखा पूरे देशभर में असर
   नई दिल्ली: कांग्रेस के नेतृत्व में रामलीला मैदान  में जूटे 21 विपक्षी दल
   पेट्रोल-डीजल के दामो में बढ़ोतरी को लेकर कल था भारत बंद

2. RBI के पूर्व गर्वनर राजन ने दिया संसदीय समिति को जवाब
  कहा- NPA बढ़ने को लेकर यूपीए सरकार हैं जिम्मेदार

3. बिहार: जहानाबाद में भारतबंद के जाम से 2 साल की बच्ची की मौंत
   बीजेपी ने पूछा - क्या राहुल लेगे मौंत की जिम्मेदारी

4. टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स ने अंपायर को कहा था चोर
  टेनिस नियम उल्लघंन होने पर अब भरना पड़ेगा 17000. डॉलर का जुर्माना

5. बाबरी विध्वस मामला: सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत से पूछा- अप्रैल 2019 तक भाजपा नेताओं से संबधित मुकदमें कैसे निपटगें

विदेश-

1. नई दिल्ली: श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे दिल्ली पहुंचे
  पीएम मोदी से मुलाकात का हैं कार्यक्रम

2. फ्रांस: राजधानी पेरिस में एक शख्स ने चलाई गोली
  7 घायल, 4 की हालत नाजुक, आरोपी पुलिस की गिरफ्त में

3.चीन के करीब हुआ नेपाल, बिम्सटेक से पहले सैन्य अभ्यास से हटा
 भारत में होने वाला था सैन्य अभ्यास

4. पाकिस्तान: इमरान सरकार का दावा, चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर यानी CPEC समझौते में नहीं हैं पाकिस्तान का हित
इसके लिए पूर्वी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

5. बाग्लादेश: वैज्ञानिकों ने हिल्सा मछली का सफलतापूर्वक बनाया जीनोम
 अब उत्पादन के साथ-साथ मछली संरक्षण में होगा फायदा

राजस्थान- 

1.जयपुर: प्रदेश भर में भारत बंद का दिखा मिला-जूला असर, जयपुर में कई जगह बाजार रहे खुले
 प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के नेतृत्व में निकाली कांग्रेसियो ने रैली

2. जयपुर: पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने 19 इंस्पेक्टर्स को दिया स्थानन्तरण का आदेश
 साथ ही आठ इंस्पेक्टर्स को किया लाइन हाजिर

3. जोधपुर: छात्र संघ चुनाव में पचास फीसदी से ज्यादा मतदाता नहीं आये वोट डालने
  46.22 फीसदी पड़े वोट, आज आयेगा दोपहर तक परिणाम

4. जयपुर: नील गाय बचाने के प्रयास में कार पलटी, दो युवको की हुई मौंत
 कालवाड़ रोड़ पर हाथोज के पास रविवार रात को हुआ हादसा
मृतक मे से एक युवक एलडीसी की परीक्षा देना जा रहा था
↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Thanks to Visit Us & Comment. We alwayas care your suggations. Do't forget Subscribe Us.
Thanks
- Andaram Bishnoi, Founder, Delhi TV

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह