तस्वीर-ए-बयां : बाइक, टीवी सब लेकिन सिर ढक्कनें के लिए नहीं हैं छत

यह दोनो तस्वीरें दिल्ली एनसीआर के एरिया‌ की हैं। पहली तस्वीर भूमीहीन परिवारों की‌ मजबुरी को बयां कर रही हैं। वहीं दुसरी तस्वीर परिवार के हालातों को व्यक्त कर रही हैं। बड़ा अचरज होता है कि टीवी तक हैं लेकिन जमीन नहीं होने के कारण पक्का घर नहीं बना पा रहे हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पटरी पर लौट आया प्याज !

अच्छे दिन को तरसता किसान

नजरिया- एक युवा सोच : युवाओं की सोच बदलने वाली अंकित कुंवर की पुस्तक का रिव्यू