सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ड्राइवर्स का महाखेल : तो डूब जाएगी OLA-UBER !

कैब ड्राइवर कंपनियों से मिलने वाले कमीशन से मुनाफा कमाते हैं. लेकिन सोच कर हैरान रह जाओगे कि ओला उबर के कैब ड्राइवर कंपनियों को खुद ही धोखा दे रहे हैं।  यह ऐसा ही है, जैसे जिस थाली में खाना खाते उसी में छेद करना।



इस पूरे फ्रॉड के खेल को समझने के लिए आपको इस पूरी रिपोर्ट को पढ़ना होगा। वैसे यह कोई रिसर्च की रिपोर्ट नहीं है। बल्कि यह एक उबर कैब बुक करने वाले शख्स की जुबानी है। इसे सिर्फ एक जुबानी के तौर पर देखना ठीक नहीं होगा। यह उन सभी कैप कंपनियों के लिए आंखें खोल देने वाली एक रिपोर्ट की तरह है, जो कैब सेवा देती हैं।

जैसे आपको कैब बुक करने की जरूरत पड़ती है। ठीक उसी तरह से सुल्तान( बदला हुआ नाम) को सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन जाने के लिए के बुक करनी पड़ी। कैब बुक करने पर 220 रुपए दिखाया गया। ठीक 10 मिनट इंतजार करने के बाद उबर कैब आ गई।

कुछ दूरी पर चलने पर ड्राइवर ने पूछा, "सर पेमेंट कितना दिखाया है ?" सुल्तान ने कहा,  "220 रुपए।" ड्राइवर ने कहा, "बहुत कम है। क्या आपने कोई कूपन अप्लाई किया है ?" सुल्तान ने कहा, "नहीं"। ड्राइवर ने कहा, "220 से क्या बचेगा"
 सुल्तान- " वह कैसे ? समझा नहीं"
 ड्राइवर ने कहा, "सर 25 फ़ीसदी कमीशन उबर ले लेगी। काफी किलोमीटर है, ऐसे में कुछ नहीं होगा । काफी कीमत का तेल खर्च हो जाएगा।" सुल्तान- ठीक है।

इतने में कैब ड्राइवर ने अपना मोबाइल उठाया और सुल्तान को उबर ऐप से एग्जिट कर।  मतलब उबर ऐप के अनुसार सुल्तान ने बस 27 रुपए ही राइड की। सीधा-साधा मतलब, सुल्तान की राइड से उबर के पास 7 रुपए गए। क्योंकि 27 का 25 फीसदी 7 होता है।

ड्राइवर्स का लालच लेे डूबेगा
लेकिन कैब ड्राइवर की करतूत समझिए। क्योंकि हकीकत में फिजिकली तो सुल्तान उबर कैब में राइड कर रहा है । सराय रोहिल्ला स्टेशन आने पर सुल्तान ने कैब ड्राइवर को ₹220 पेमेंट किया।
वहीं उबर ऐप के मुताबिक सुल्तान ने 27 रुपए की ही राइड की और वह पहले ही उतर चुके हैं। क्योंकि ड्राइवर ने ऐप से थोड़ी दूर चलने पर एग्जिट कर दिया था। सुल्तान का तो कुछ नहीं गया। उसे तो पहले भी 220 रुपए देने थे। और अभी भी उस उबर उबर ऐप से उसे एग्जिट होने के बाद भी 220 रुपए भी देने पड़े।

सोचिए उस कंपनी के बारे में जो सुल्तान की राइड से सिर्फ 7 रुपए ही कमा पाई। लेकिन हकीकत में कैब ड्राइवर ने 220 रुपए सुल्तान से वसूले।

इस तरह से कई सारे ड्राइवर्स करतूत के जरिए ज्यादा मुनाफा कमा रहे हैं। परन्तु OLA-UBER जैसी कैब कंपनियों को नुकसान पहुंच रहा है। इस उदाहरण से समझ सकते हैं। किस तरह से ड्राइवर्स कंपनियों के साथ खेल रहे हैं। सुल्तान की राइड से 7 रूपए मिले, लेकिन मिलने चाहिए 55 रुपए।

यानी यह खेल इस तरह से चलता रहा। तो OLA-UBER जैसी कम्पनीओ को घाटे में पहुंचा देंगे। जल्द ही OLA-UBER जैसी कंपनियों को जागना होगा। कुछ ऐसा सिस्टम लाना होगा, जिससे ड्राइवर्स का फ्रॉड करने का तरीका रूके सकें।
✍ अणदाराम बिश्नोई

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह