सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

100 के पार पेट्रोल, फिर क्यों ना हो 'सरकार' ट्रोल !

 महंगाई शब्द गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों का कभी पीछा नहीं छोड़ता. इस बार महंगाई के टेस्ट में पेट्रोल की कीमत ने शतक लगा दिया. राजस्थान के श्रीगंगानगर में कीमत तीन अकों में पहुंच गई. ऐसा पहली बार हुआ है. आमजन में तराहीमाम मचा हुआ है. केंद्र सरकार मिशन बंगाल में व्यस्त है.

 प्रदेश सराकरें भी बहती गंगा में हाथ धो रही है. यानी केंद्र सरकार ने तेलों की बढ़ी कीमतों का चाबुक चलाया, तो वहीं राज्य सरकारें भी वैट बढ़ाकर रेवेन्यू जुटाने की जुगत में लगी है. 

वहीं पड़ोसी देश हम भारतीयों को खुब चिढ़ा रहे है.... क्योंकि भारत से पेट्रोल-डीजल कीमते, पड़ोसी देशों में सस्ता है, बात करें कि श्रीलंका की तो, यहां 60.26 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल मिल रहा है. भूटान में 49.56 रुपए प्रति लीटर है. 

इतना ही नहीं, दूसरे देशों से आर्थिक मदद की भीख मांगने वाले हमारे 'प्रिय दुश्मन' पाकिस्तान में 51.14 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल मिल रहा है. कंगाली से जूझ रहा पाकिस्तान भी पेट्रोल को लेकर आवाम पर रहमत पर कर रहा है.

 लेकिन हिंदुस्तान में, चाहे कोई भी सरकारे हो, रेवेन्यू बढ़ाने के लिए आतुर रहती है.  वहीं नेपाल में ओली के राज में पेट्रोल, भारत से सस्ता है. यहां पेट्रोल की कीमत  68.98 रुपए प्रति लीटर है.  बांग्लादेश में 76.41 रुपए प्रति लीटर है. 

स्वभाविक है, विदेशी कीमतों को जानकर आप ठगा सा महसूस कर रहे होंगे.  लेकिन इतनी महंगाई बढ़ने के बावजूद ज्यादातर भारतीय कुछ नहीं बोल रहे है. यहां तक की बाकी मु्ददों पर बिना समझ के एक्सपर्ट बनने वाले फेसबुकिए विशेषज्ञ मौनी अवस्था में चले गए..

- अणदाराम बिश्नोई

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

गरीब युवाओं से आह्वान: बड़ा करना है तो शिक्षा बड़ा हथियार

भारत की आत्मा गांवों में निवास करती है, महात्मा गांधी के इस कथन का महत्व तब बढ़ जाता है. जब गांवों से टैलेंट बाहर निकलकर शहर के युवाओं को पछाड़ते हुए नए मुकाम हासिल करते है. ऐसी कहानियां उन लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन जाती, जो पैदा तो भले ही गरीबी में हुए हो. लेकिन हौसलों से आसमान छूना चाहते है. यब बातें सुनने जितनी अच्छी लगती है, करके दिखाने में उतनी ही कठिनाइयों को सामना करना पड़ता है. सपनों को हकीकत में बदलने के लिए जुनून, धैर्य और लगन जरूरी है.   (P. C. - Shutterstock)  सोचिए एक गरीब परिवार में जन्मे युवा किन-किन कठिनाइयों से गुजरता होगा. गरीबी में पैदा होना किसी की गलती नहीं है. गरीबी में पैदा हुए युवाओं को शिक्षा से वंचित नहीं होना चाहिए. शिक्षा ही वो सबसे बड़ा हथियार है. जिससे गरीबी रेखा को लांघकर समाज कल्याण का काम कर सकते है. परिवार को ऊपर उठा सकते है. दुनिया के सबसे बड़े अमीरों में शुमार बिल गेट्स का यह वक्तव्य किसी प्रेरणा से कम नहीं है. बिल गेट्स कहते है कि  '' अगर गरीब पैदा हुए तो आपकी गलती नहीं, लेकिन गरीब मरते हो तो आपकी गलती है'' भारत में करीब 32 फीस