सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विकास गया तेल लेने, हम तो धर्म की ठेकेदारी करेगे?? : गुजरात चुनावी राजनीति

सत्ता की भूख इंसान पर किस कदर हावी हो जाती है,यह इस बार गुजरात चुनावी राजनीति में सबको देखने मिल रहा है। चाहे कुछ भी हो जाये बस सत्ता नही जानी चाहिए।बस यही चाहत है हर नेताजी की।  गुजरात का नाम आते ही नमो-नमो जरूर सामने स्मृति पटल पर आ जाता है।चाहे वो नमो चाय हो या फिर नारा तथा मित्रो !

BJP ने 2014 का चुनाव भी गुजरात मॉडल पर लड़ा था। जिसमे ऐतिहासिक जीत मिली।
                                        इसलिए अब प्रश्न यह उठता है की इस गुजरात का चुनाव में विकास मॉडल कहाँ चला गया। माननीय PM साहब को आखिर आंसू बहा के "मै गुजरात का बेटा हुँ।" क्यो कहना पड़ रहा है? यह तो सबको पता है की भाषण के धुरेन्धर मोदी जी गुजरात से है।
अगर वाकई विकास हुआ है तो विकास को जनता के सामने क्यो नही रखते, भावुक मुद्दो के बजाय। आखिर योगी ,PM को आने की कहां जरूरत थी। और इधर से राहुल बाबा मंदिर -मंदिर क्यो भटकते फिर रहे है। कांग्रेस तो हमेशा अपने  को सेकुरलिज्म कहती नही थकती थी तो फिर अब कह रही है की हमारे युवराज राहुल तो हिन्दु ही नहीं बल्की जनेऊधारी हिन्दु है।
Photo : DainikBhaskar





   वाह क्या बात है !! लगता है अब कांग्रेस भी सीख गई ,की सत्ता को पाना है तो हिन्दु बनना पड़ेगा। क्योकि गुजरात में 80% वोट बैंक हिन्दुओ का है। हां हिन्दु बनना कोई बुरी बात नहीं है  परन्तु सत्ता की भुख के खातिर ,भोली भाली जनता को बेवकुफ बना के धर्म के नाम पर वोट बँटोरना कतई सही नही है। इसे सुफ्रीम कोर्ट ने भी गलत बताया है।

पहले तो सवाल यह उठता है की राहुल गाँधी के सोमनाथ मन्दिर की एन्ट्री मे नॉन-हिन्दु पर BJP ने बवाल उठाकर धर्म की राजनीति क्यो की?
                    उपर से कांग्रेस भी कम नहीं, कहती है राहुल जनेऊधारी हिन्दु है। भाई किसी गरीब,बेरोजगार को इससे क्या लेना-देना की ,प्रत्याक्षी हिन्दु है या मुस्लमान?
उसे तो बस अपना विकास चाहिए। परन्तु हमारे राजनेता (चाहेBJP हो या कांग्रेस) को विकास के मुद्दे न सुझकर ,बस धर्म की गंदी राजनीति सुझ रही हैं ।
अब हम सोच सकते है कि अपने देश का लोकतंत्र किस घटीया स्तर तक पहुंच गया है। भारत को संसार को सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश माना जाता है। लेकिन लगता है देश के सफेदपोश नेता इसकी मर्यादा भूल गये है।
                     Photo : DainikBhaskar

बता दुं की हम भी कम दोषी नहीं है। आजकल जनता भी धर्म की राजनीति को ज्यादा प्राथमिकता देने लगी है। इसलिए जनता को धर्म के चश्मे को उतार कर ,राष्ट्र-हित के बारे में सोचकर प्रत्याक्षी चुनना चाहिए।

और एक बात तो लिखना भूल ही गया की राहुल को गुजरात चुनाव आते ही मंदिर क्यो याद आने लगा। पुर्व में तो राहुल ने कहां ़था की लोग मंदिर में लड़कियां छेड़ने जाते है। तो अब मै राहुल से पुछना चाहता हुं की क्या आप भी लड़किया छेड़ने गये।
 अब खुद सोच सकते है की नेताओ /राहुल को जनता की चिंता है फिर अपनी???
आप को यह पोस्ट कैसे लगी? कमेन्ट मे जरूर बतायें।
और इस तरह के राजनीतिक चटखरे पढ़ने के लिए हमे ई-मेल डालकर Subscribes(सदस्यता ले लेवे) कर ले। ताकी आप पढ़ सकोगे नई पोस्ट सबसे पहले।

आप हमे फेसबुक (क्लिक करे) पर भी फोलो कर सकते है।⏩⏩⏩⏩⏪⏪⏪⏪




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प