सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लघु कहानी : दबंग महिला

 लघु कहानी पढ़ने के तलाश में हो तो आप एकदम सही जगह पर आएं हो। यहां एक लघु कथा 'दबंग महिला' हैं। पढ़िए और आनन्द उठाइएं - 

Short story in Hindi, लघु कहानी, लघु कहानी दबंग महिला

बस पुरी तरह से खच्चा-खच्च भरी हुई थी। जितने यात्री सीट पर बैठें थे, उससे कही ज्यादा यात्री पैरों पर खड़े थें। मै भी जैसे-तैसे पैर रखने की जगह बनाकर डंडे के सहारे खड़ा था। इतने में मेरी नजर एक ह्रष्ठ-पुष्ठ महिला  पर पड़ी। वह भी मेरे से थोड़ी-सी दुर एक हाथ से डंडा तथा दुसरे हाथ से थैंला पकड़े खड़ी थी। उसके चेहरें पर एक अजीब-सा भाव झलक रहा था, जैसे कोई परेशान हो। प्रथम दृष्टया  पहनावा व कद-काठी से पंजाबी लग रही थी। काफी उम्र-दराज होने पर भी गठीले बदन पर हल्का गुलाबी रंग का सलवार-सूट खुब फ़ब रहा था।

इतने में पीछे के दरवाजा से भीड़ का रैला आ पड़ा। धक्का-मुक्की से असहज होने पर  'जेब कतरों से सावधान'  वालें पोस्टर ने मेरा ध्यान मेरी जेंब की ओर खींचा। बारी-बारी से एक हाथ से दोनों जेंबो को खंगाला। पर्स और मोबाइल को यथास्थिति पर पाकर ऐसा लगा, जैसे  मैनें कोई रण जीत लिया हो। मेरा ध्यान फिर उस महिला की तरफ गया। इस बार वह एक नौंजवान से कुछ बड़-बड़ा रही थी। बीच-बीच में जब भी मेरी नजर उस नौंजवान पर गई , उसे सीट पर सोया हुआ ही पाया।

इस बार उस महिला के मुंह से जोर से आवाज गुंजी- "लैडिज सीट पर कब से सो रहा हैं, शर्म नहीं आती... सोना हैं तो घर पे जाके सोवों"
ऐसा लगा मानो वह भीड़ से होने वाली परेशानी का सारा खींझ इस नौंजवान पर निकाल रही हो। यह सब सुनते ही बेचारा नौंजवान  चुप-चाप सीट से खड़ा हो गया। आस-पास के लोंग सब इधर-उधर मुंह ताकने लगे और एक-दुसरें से फुसफुस्साने लगे। हालांकि वह नौंजवान, महिला सीट पर नहीं बैठा था।  उस सीट के आस-पास सारे पुरूष ही बैठें थे। लेकिन उस महिला को पता नहीं क्यों वो एक नौंजवान ही दिखा। महिला सीट पर बैठ चूकी थी।

आप को यह लघु कहानी कैसीं लगी, अपना कीमती समय निकालकर कॉमेंट कर जरूर बताएं। इससे मूझे यह तय करने में आसानी रहेगी की कहानी कैसी थी और आप क्या पढ़ना चाहता हैं। और सबसे बड़ी बात दोस्त ! मेरी यह पहली कहानी हैं। इसलिए आपका फीडबैक मेरे लिए बहुत ही मुल्यावान हैं। अच्छा/बुरा सुझाव जो भी हो कृपया जरूर दीजिए, मूझे आपके कॉमेंट का बेसब्री से इंतजार हैं।
✍ अणदाराम बिश्नोई


 ↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।
आखिर शेयर क्यो करे ❔- क्योकी दोस्त इससे हमारा मनोबल बढ़ेगा।हम आपके लिए इसी तरह समय निकाल कर महत्वपुर्ण पोस्ट लाते रहेगे। और दुसरी बड़ा फायदा Knowledge बांटने का पुण्य। इस पोस्ट को शेयर कर आप भी पुण्य के भागीदार बन सकते है। देश का मनो-विकास होगा ।
तो आईये अपना हमारा साथ दीजिए तथा हमें "Subscribes(सदस्यता लेना) " कर ले    अपना ईमेल डालकर।

टिप्पणियाँ

  1. बहुत अच्छा प्रयास है आप वास्तव में बहुत मेहनत करते है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल बढ़ाने के लिए आपका तहेदिल से शुक्रिया !

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

Thanks to Visit Us & Comment. We alwayas care your suggations. Do't forget Subscribe Us.
Thanks
- Andaram Bishnoi, Founder, Delhi TV

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प