पोस्ट

दिसंबर, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ड्राइवर्स का महाखेल : तो डूब जाएगी OLA-UBER !

चित्र
कैब ड्राइवर कंपनियों से मिलने वाले कमीशन से मुनाफा कमाते हैं. लेकिन सोच कर हैरान रह जाओगे कि ओला उबर के कैब ड्राइवर कंपनियों को खुद ही धोखा दे रहे हैं।  यह ऐसा ही है, जैसे जिस थाली में खाना खाते उसी में छेद करना। इस पूरे फ्रॉड के खेल को समझने के लिए आपको इस पूरी रिपोर्ट को पढ़ना होगा। वैसे यह कोई रिसर्च की रिपोर्ट नहीं है। बल्कि यह एक उबर कैब बुक करने वाले शख्स की जुबानी है। इसे सिर्फ एक जुबानी के तौर पर देखना ठीक नहीं होगा। यह उन सभी कैप कंपनियों के लिए आंखें खोल देने वाली एक रिपोर्ट की तरह है, जो कैब सेवा देती हैं। जैसे आपको कैब बुक करने की जरूरत पड़ती है। ठीक उसी तरह से सुल्तान( बदला हुआ नाम) को सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन जाने के लिए के बुक करनी पड़ी। कैब बुक करने पर 220 रुपए दिखाया गया। ठीक 10 मिनट इंतजार करने के बाद उबर कैब आ गई। कुछ दूरी पर चलने पर ड्राइवर ने पूछा, "सर पेमेंट कितना दिखाया है ?" सुल्तान ने कहा,  "220 रुपए।" ड्राइवर ने कहा, "बहुत कम है। क्या आपने कोई कूपन अप्लाई किया है ?" सुल्तान ने कहा, "नहीं"। ड्राइवर ने कहा, &