पोस्ट

फ़रवरी, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

फोटो स्टोरी : ट्रंप के भारत दौरे को सिर्फ 25 तस्वीरों से समझिए

चित्र
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 24-25 फरवरी को भारत दौरे पर हैं। सोमवार को अहमदाबाद में ट्रंप ने नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी समेत अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का परिवार भी मौजूद रहा। अगर आप ने दिनभर टीवी पर कार्यक्रम नहीं देखा हैं, तो कोई बात नहीं। क्योंकि आपको DelhiTV.in पर पढ़ने को मिल रही है सिर्फ 25 तस्वीरों में पूरी कहानी। पहली तस्वीर :  जैसे ही विमान से अहमदाबाद एयरपोर्ट पर ट्रंप बाहर आए, तो पीएम मोदी ने गले लगकर गर्म जोशी से स्वागत किया। पास में खड़ी हैं ट्रंप की पत्नी मलानिया दूसरी तस्वीर :  ट्रंप का विमान सोमवार यानी 24 फरवरी को करीब 11:40 AM पर पहुंचा। तस्वीर में ट्रंप और मोदी हैं, साथ ही दोनों के पीछे पीछे चल रही हैं अमरीका की फर्स्ट लेडी यानी ट्रंप की पत्नी मेलानीया। तीसरी तस्वीर : अहमदाबाद एयरपोर्ट पर ट्रंप का भारतीय तरीके से स्वागत हुआ। इस दौरान गुजराती ट्रडिशनल वेशभूषा में कलाकार नजर आए। चौथी तस्वीर : एयरपोर्ट से निकलने के बाद ट्रंप ने रोड शो किया। जो करीब 22 किलोमीटर था। यह तस्वीर ट्रंप के रोड शो के दौरान की हैं। जिस

ट्रंप ने बाहुबली थीम पर शेयर किया वीडियो, लिखा - भारत वासियों से मिलने के लिए उत्साहित

चित्र
अमेरिकी राष्ट्रपति भारत दौर पर हैं। 24-25 फरवरी तक रुकेंगे। साथ में पत्नी मेलानीय, बेटी इवांका, बेटा जूनियर ट्रंप, और दामाद भी रहेंगे। वहीं दौर को तैयारी पूरी तरह से तैयार हैं। इसी माहौल के बीच ट्रंप ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर कर सबका दिल जीत लिया है।  पहले आप यह वीडियो देखिए -  फिर इसके पीछे की कहानी बताते हैं। दरअसल, यह वीडियो ट्विटर पर मीम आर्टिस्ट ने ट्वीट किया है। इसको फिर ट्रंप ने रीट्वीट किया, और लिखा कि मैं भारत वासियों से मिलने के लिए उत्साहित हूं। आपको बता दे की वीडियो बनाने वाले मेमेलजी के प्रोफेसर है। जानकारी के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत दौर पर हैं। वो अहमदाबाद में नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इसके बाद 25 फरवरी को आगरा आएंगे। पत्नी मेलेनिया के साथ ताजमहल का दीदार करेंगे। वहीं आपको बताते चले कि ट्रंप के साथ बेटे, बेटी और दामाद भी हैं। जयपुर एयरपोर्ट रखा है स्टैंडबाई मोड पर ट्रंप सीधे अहमदाबाद जाएंगे। लेकिन मौसम खराब होने की वजह हो सकता है ट्रंप के विमान को जयपुर एयरपोर्ट पर लैंड कराया जाए। इसी मद्देनजर रविवार को अमेरिकी खुफिया एजें

पटरी पर लौट आया प्याज !

चित्र
200 रुपए से प्याज अब सस्ता हो गया है। जिसका असर रेहड़ी से लेकर होटल तक दिखने लगा है। याद कीजिए हाल ही के वो दिन, जब प्याज की जगह सलाद में खीरा और मूली परोसी गई। वाकई बहुत कठिन दौर रहा। खाने का स्वाद ही बिगाड़ दिया। खैर , अब स्थिति में सुधार हो रहा है। विदेश से प्याज का स्टॉक आने से राहत मिली है। प्याज की कीमत 50 से 60 रुपए तक देखने को मिल रही हैं। प्याज क्यों हुआ सस्ता ?  जब सितम्बर-नवंबर में प्याज की कीमतें आसमान छूने लगी, तो केंद्र सरकार ने आम जनता को राहत देने के लिए विदेशों से प्याज मंगाया। जिसका अब नतीजा यह है कि प्याज का स्टॉक ज्यादा हो गया है। क्योंकि भारत में प्याज की उपज भी मंडियों में आना शुरू हो गई हैं। जिसके चलते कृषि उपज मंडी में औसत थोक रेट करीब 20 से 25 रुपए प्रति किलो हो गई है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, आने वाले वक्त में प्याज की कीमतों में और गिरावट होगी। खाने का बढ़ा जायका, तो किसानों की बढ़ी चिंता प्याज की कीमतों में गिरावट एक तरफ मध्यम वर्ग के लोगों के लिए राहत हैं, तो वहीं किसानों के माथे पर चिंता की नई लकीरें खींच दी है। किसानों को उम्मीद थी कि इस

अदनान सामी: अंतरराष्ट्रीय संगीतकार के रूप में प्रसिद्ध होने से लेकर मोदी के हिमायती बनने तक का सफर

चित्र
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पद्म पुरस्कारों की घोषणा की।इन नामों में से एक अदनान सामी पर बहस छिड़ी है। सामी का जन्म 1971 में हुआ। अदनान सामी के पिता पाकिस्तान वायु सेना में पायलट रहे है और बाद ने 15 देशों में पाकिस्तान के राजदूत रहे। अदनान सामी पाकिस्तान के नागरिक रहे है और साल 2015 में जब पाकिस्तान ने उनका वीजा नवीनीकरण का आवेदन खारिज किया तो उन्होंने भारतीय नागरिकता हासिल की। PC : Adanan Swami Insta. 10 साल की उम्र में उन्होंने लंदन में आर डी बर्मन कॉन्सर्ट में हिस्सा लिया। उन्हें क्या पता था कि इसके बाद उनकी जिंदगी एक अलग ही करवट लेने वाली थी। वहां उनकी मुलाकात आशा भोंसले से हुई और इसके बाद उन्होंने संगीत को अपना सब कुछ दे दिया। अदनान सामी ने 15 साल की उम्र में अपना पहला गाना गाया जो साल 1986 में मध्य पूर्व का सबसे हिट गाना बना। उसके एक साल बाद उन्होंने यूनिसेफ के लिए गाना लिखा। ये गीत इथोपिया के लिए समर्पित था जो सदी के सबसे भयंकर सूखे से ग्रसित था। इसके लिए उन्हें विशेष पुरस्कार मिला। अमेरिका की एक सम्मानित मैग्जीन ने उनको नब्बे के दशक क