पोस्ट

जुलाई, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पीएम मोदी का लेह जाना जरूरी था, सेना का मनोबल बढ़ा !

चित्र
भारत और चीन के बीच तनातनी जारी है। इसी बीच पीएम मोदी का लद्दाख के लेह पहुंचने से हर कोई चौंक गया। पीएम ने छाती ठोक कर कहा कि गलवान घाटी हमारी हैं। दुश्मनों के इरादों को नेस्तनाबूद किया। सेना के जवानों के पराक्रम पर पूरे देश को नाज़ हैं।  लद्दाख के लेह में जवानों के बीच पीएम मोदी पीएम मोदी के यह शब्द वाकई में सेना के जवानों के लिए किसी एनर्जी बूस्टर से कम नहीं हैं। पीएम मोदी के लेह जाने से चीन को सख्त संदेश गया है। चीन के आका जिनपिंग बाबू को किसी तरह की गलत फहमी नहीं पाले। पीएम मोदी के लेह से जवानों को संबोधन में साफ जाहिर हो गया। यह सच हैं कि चीन, भारत से कई गुना सैन्य तौर पर शक्तिशाली है। चीन के पास आधुनिक तकनीक से लैस ढेरों हथियार और युद्ध का साजों सामान हैं।  लेकिन भारत भी अब 1962 वाला नहीं रहा है। परिस्थितियां समेत कई चीजें बदली हैं। तभी तो भारत ने बिना किसी देर किए चीन पर डिजिटल स्ट्राइक की और एक झटके में 59 चीनी ऐप को बैन कर दिया। दूसरा पहलू यह भी है कि गालवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवानों को शहीद होना