सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सिस्टम लाचार या खुद बेहाल : नहीं आयी 108, कर दिया हुकुमरानो ने साफ इन्कार

मानसिक विमंदित सुनिल बिश्नोई जंजीर से बंधा हुआ

यह तस्वीर सामने दिखने में जितनी खौफनाक लग रही है,उतनी ही बड़ी इसके पीछे दर्दभरी 15-16 साल की दास्तां छुपी है। इसमे जो लड़का जंजीर से बंधा दिख रहा है, यह मानसिक रूप से विमंदित है और काफी सालो से बेड़ियो से बंधकर पशु की तरह ,इलाज के लिए धन न होने के कारण जीवन व्यतीत कर रहा हैं।
लेकिन हद तो तब हो गई जब अचानक तबीयत बीगड़ने पर इलाज के लिए ले जाने 108 ( नि:शुल्क एम्बुलेंस) को कॉल किया तो ,उन्होने साफ इंकार कर दिया। अब यहां कई सवाल खड़े हो जाते है। जो होना स्वाभाविक है। क्योकि आखिर  फिर यह मरीजो के लिए नहीं है तो किसके लिये है। 
जो इन परिवार के साथ हुआ है। यह कल किसी के साथ भी हो सकता है, हमारे साथ भी और आपके साथ भी। तो खुद को जगाईये और आवाज उठाईये। और इस पोस्ट को इतना शेयर करे की यह बात सबको पता चल जानी चाहिए की सिस्टम में कहीं ना कहीं मरम्मत की जरूरत हैं।
पीड़ीत सुनिल बिश्नोई के पास पहुंची पुलिस
आपको बता दे कि यह घटना बीते सोमवार (18 Dec2017) की राजस्थान के जोधपुर जिले के एकलखोरी गांव की हैं। सुनिल बिश्नोई को कई सालो से जंजीर से बंधा देख, सामाजिक कार्यकर्ता विशेख विश्नोई  रणजीत सिंह ने इस संबंध में फेसबुक पर पोस्ट वायरल की थी। जिसे देखकर वहां न्यायधीश ने पुलिस को सुनिल बिश्नोई को इलाज के लिए ले जाने का मौखिक आदेश दिया। बाद में पुलिस ने निजी वाहन से ले जाने को कहा। परन्तु परिवार वालो के पास धन नही होने के कारण 108 से कॉल किया। जहां फोन पर 108 भेजने से मना कर दिया ।
मामला काफी डर पैदा कर देना वाला है। सोचिए यह नि: शुल्क किसके लिये बनी है? अमीरो के लिए!!!
यह बनी है गरीबो के लिए ,।ताकी समय से इलाज के लिए पहुंचाया जाये।
परन्तु यह जो देखने मिला है,इससे यही लग रहा है कि आखिर सिस्टम इतना कठोर क्यो हो गया? उसे यह भी नहीं दिखा कि हमने जिस उद्देश्य के लिए यह सेवा शुरू की थी,उसे हमे नरार रहे है।
तो फिर समझ में नहीं आता है की यह बनाई किसके लिये है,?? केवल नेताओ के सिए,केवल अमीरो के लिए!!
तो क्या गरीबो के लिए खाक़ कर रही है सरकार

दोस्त जागीये, और जितना हो सके फैलाइये, सिस्टम की बीमारी ठीक करने के लिए सरकार को मजबुर कर दीजिए।
जोधपुर के Local Newspaper. में भी छपी खबर




टिप्पणियाँ

  1. samaj ke log jitna money nase ke liye waste krte h uska frection of part yadi eske elaj me krte to sayad 15 sal ese nahi gujarne padte

    जवाब देंहटाएं
  2. माननीय आपने बिल्कुल सही कहा। फीडबैक देने के लिए शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

Thanks to Visit Us & Comment. We alwayas care your suggations. Do't forget Subscribe Us.
Thanks
- Andaram Bishnoi, Founder, Delhi TV

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह