सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

28 साल से बेघर इधर है ! सरकार का ध्यान किधर है ?

प्रधानमंत्री आवास योजना यहां बेघर लौगो पर काम क्यो नही कर रही है? क्या इन गरीबो को जिन्दगी भर बिना घर रहना ही नसीब है? न जाने भारत में कितने गरीब लौग इस तरह से बिना घर रहते होगें।

जाने आगे-
कहना कितना अच्छा लगता है राजनेताओ को कि "हम देश की जनता के सेवक हैं, मैं गरीबी से गुजरा हुँ ! मुझे मालूम है  गरीबी का कष्ट कितना दु:खदायी होता हैं।"
        यह सब हमें भी नेताजी के श्रीमुख से सुनने पर काफी सुकुन दिलाता हैं। परन्तु क्या आपने कभी गौर किया हैं कि यह महान नेताजी जो प्रवचन ( भाषण में चुनावी वादे) सुना रहे हैं । उसमें वो कितना अमल करते हैं? यह गरीबों के हितो की बातें तो खुब अच्छे से करते हैं परन्तु क्या जमीनी स्तर पर इन्होने काम किया हैं?
यह सवाल दिखने में काफी साधारण लग रहे हैं लेकिन जनाब ! इनके जवाब देने में नेताओं के कंपकंप छूट जाती हैं।

मै यह आज इतने सवाल इसलिए कर रहा हुँ क्योकि जब हम कहीं बड़े शहर के बाहर इधर-उधर ताक-झाक करते है तो मैने जो उपरोक्त सवाल पूछे हैं , यह अपने आप आपके दिलों-दिमाक में आने शुरू हो जाते हैं। ऐसा ही कुछ मेरे साथ हुआ जब दक्षिणी दिल्ली में विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल लोट्स टेंपल के ठीक सामने कुछ दुरी पर स्थित औखला मेट्रो स्टेशन की तरफ जाने लगा।

यहां पर बेघर परिवार रहते है जो अपने आप में उभरते भारत की एक अलग तस्वीर दिखा रहे है। जिसने मुझे यह आलेख लिखने के लिये मजबुर किया !!

100 से ज्यादा झुग्गीयाँ
तिरपाल से बनी हुई झुग्गी इनके लिये घर हैं, चाहे मौसम कैसा भी हो। बरसात में रहना मुश्किल हो जाता हैं। कीचड़ फैलने की वजह से मलेरियाँ व डेंगूँ जैसी भयावह बीमारी फैलने का भी डर सताता रहता हैं। यहां का निवासी कहता हैं "हमारे यहां पर करीब 100 से ज्यादा परिवार झुग्गी  बना कर रह रहे हैं।" 


अधिकतर गाँव-देहात से
जो भी यहाँ पर रहता हैं इनमें से अमुमन बिहार व झारखण्ड के गाँव-देहाती इलाको से हैं।
        झारखण्ड से 6 महीने पहले आई 'कपुरी देवी' कहती हैं कि "गाँव मे  5-6 महीने खेती की और फसल सीजन ऑफ  हो जाने पर  दो  वक्त रोटी  का जुगाड़  के लिये परिवार सहित शहर आ गये । यहां पर दिहाड़ी मजदुरी करते हैं"

यह भी पढ़े: कभी झोपड़-पट्टी में पला-बढ़ा और आज बिघेर रहा बॉलीवुड में जलवा

इस कपुरी देवी की तरह अधिकतर परिवार यहां काम की तलाश में आये हुवें हैं। इनमें सें कुछ यही जम जाते हैं और मजदुरी करके अपने परिवार का जैसे-तैसे पेट पालते हैं। जब वहां रहने वाले और लोगो से बात की तो पता चला कि कुछ परिवार ऐसे भी हैं जो 28 सालो से यहीं रहते हैं। परन्तु इनको कभी घर नसीब नहीं हुआ हैं।

प्राथमिक शिक्षा के भी पड़ रहे लाले !
जब बच्चो से बात की तो पता चला कि ज्यादातर बच्चे तो स्कुल जाते ही नहीं हैं। क्योकि दिहाड़ी इतनी अधिक नहीं मिलती हैं कि बच्चो को माता-पिता स्कुली शिक्षा दिलवा सकें।
इतने में मुलाकात यहां झुग्गीयों में रहने वाली दो बालिकाएँ रेखा व रेश्मा से हो जाती हैं। वो बताती है "वो दोनो बड़ी होकर टीचर तथा इन्जीनियर बनना चाहती हैं" ।
जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि बच्चों में कुछ करने का हौंसला हैं। परन्तु गरीबी की दल-दल सपनो को आगे उड़ान भरने में आड़ा आ रहा हैं।

यह तो एक शहरी इलाका का दृश्य हैं । आप खुद सोचिए की पुरे अपने देश भर में न जाने कितने ऐसे परिवार होगे , जो बेघर होकर जीवन जीने का संघर्ष कर रहे हैं।
✍ अणदाराम  बिश्नोई

 ↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।
आखिर शेयर क्यो करे ❔- क्योकी दोस्त इससे हमारा मनोबल बढ़ेगा।हम आपके लिए इसी तरह समय निकाल कर महत्वपुर्ण पोस्ट लाते रहेगे। और दुसरी बड़ा फायदा Knowledge बांटने का पुण्य। इस पोस्ट को शेयर कर आप भी पुण्य के भागीदार बन सकते है। देश का मनो-विकास होगा ।
तो आईये अपना हमारा साथ दीजिए तथा हमें "Subscribes(सदस्यता लेना) " कर ले    अपना ईमेल डालकर।
💪इसी तरह देश हित की कलम की जंग का साथ देते रहे।👊





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह