सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज की बड़ी खबरें : 12 सितम्बर 2018

राजस्थान की बड़ी खबरें , देश विदेश की बड़ी खबरे शॉर्ट में, ताजा हैंडलाइन्स

Today latest news, DelhiTV news, ताजा खबर


देश-
1. 3 महीने चली पड़ताल का दावा, खतरें में हैं आधार सॉफ्टवेयर
अगर दावा सच तो , 1 अरब भारतीयों के डेटा खतरें में
हाफइंडिया पोस्ट की रिपोर्ट में हैं यह दावा
UIDAI ने दी सफाई , कहा- यह सब भ्रम फैला रहे हैं

2. नेशनल हेराल्ड केस: स्मृति ईरानी ने राहुल-सोनिया पर साधा निशाना, कहा- राहुल की कंपनी नें 50 लाख देकर 90 लाख का लिया लोन
साथ ही कहा , राहुल की कंपनी ने टैक्स नियमों का किया उल्लघंन

3. आगरा: शहर में धारा 144 लागू, फिर भी SC/ST एक्ट विरोध का जिद करने पर कथावाचक देवकीनन्दन को किया गिरफ्तार
पुलिस ने फिर किया  देवकीनन्दन ठाकुर को रिहा

4. कलकत्ता : आंध्रप्रदेश व राजस्थान  के बाद  ममता ने घटाए पेट्रोल-डीजल के दाम
पश्चिम बंगाल में आज से 1 रूपए सस्ता मिलेगा पेट्रोल-डीजल

5. राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा ने पेट्रोल के बढ़ते दामो को लेकर सरकार पर साधा निशाना
साईकिल पर सवार होकर फेसबुक पर की पोस्ट

6. PM मोदी ने आशा-आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को दिया तोहफा,
इनका मानदेय 3000 से बढ़ाकर 4500 रूपया किया

7. PNB बैंक घोटावा : मेहुल चौकसी पहली बार कैमरे के सामने, एक भारतीय निजी टीवी चैनल को इंटरव्यू भी दिया
कहा- मै कभी भारत नहीं लौंटुगां, जानबूझकर सरकार ने मेरी परेशानियां बढ़ाई

विदेश-

1. नेपाल ने दिया भारत को झटका, सैन्य अभ्यास में नहीं भेजा सैनिको को भारत

2. पाकिस्तान के पूर्व PM की पत्नी कुलसूम का लंदन में हुआ निधन
 नवाज शरीफ व उनकी बेटी मरियम भ्रष्टाचार के मामले को लेकर हैं जेल में

3. अमेरिका राष्ट्रपति ट्रम्प और उत्तर कोरियाई शासक किमं जोग मिल सकते हैं एक फिर,
किम ने भेजी चिट्ठी, ट्रम्प ने जताई मिलने की इच्छा

4. इस्लामाबाद : पाकिस्तान में आयी पानी की किल्लत, PM इमरान ने मांगी बांध बनाने में सहायता

राजस्थान- 

1. राजस्थान छात्रसंघ चुनाव : NSUI और ABVP को बड़ा झटका, कई जगह निर्दलियों नें मारी बाजी
पहली बार निर्दलीय के रूप में अध्यक्ष पद विनोद जाखड़ जीतें : RU

2. करौली : कांग्रेस का आयोजित हुआ "विजय सकल्प " कार्यक्रम, जमा हुई काफी भीड़
 गहलोत,सचिन सहित कई दिग्गज नेता हुएं शामिल

3. चुरू: CM राजे ने गौरव यात्रा के दौरान  जनता को किया संबोधित
वहीं कांग्रेस ने साधा निशाना, गहलोत ने कहा- गौरव यात्रा नहीं, यह वसुन्धराजी की विदाई यात्रा हैं

4. जयपुर: एयरपोर्ट पर चप्पल की सोल में पकड़ा गया सोना,
सोना का वजन 1.360 ग्राम, कस्टम विभाग ने तलाशी के दौरान पकड़ा
↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प