सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज की बड़ी खबरें : 15 सितम्बर 2018

आज की बड़ी खबरें, देश विदेश सहित राजस्थान की ताजा खबर जाने शॉर्ट में- Today Latest News 

DelhiTV.in latesr news, आज की बड़ी खबरें, देश-विदेश और राजस्थान की बड़ी खबरें शॉर्ट में

देश- 

इन्दौर : मुहर्रम मजलिस में शामिल होने सैफी मस्जिद में नंगे पैर पहुंचे  PM मोदी, कहा- बोहरा मुस्लिम समुदाय से मेरा पुराना रिश्ता | देश के किसी मस्जिद में पहली बार PM मोदी

बुराड़ी कांड में नया खुलासा: आत्महत्या से नहीं , दुर्घटना में गई थी 11 लोगों की जान, CBI रिपोर्ट का दावा |साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी के आधार तैयार की गई हैं CBI की रिपोर्ट

नई दिल्ली : रजन गोगोई देश के नये CJI घोषित, 2 अक्टूबर को मिश्रा के रिटायर होने पर संभालेगें कार्यभार

नई दिल्ली : PM मोदी ने मंहगाई पर बुलाई बैठक, RBI गर्वनर ,वित्त मंत्री सहित अधिकारी रहे मौजूद | जेटली ने कहा- भारत की विकास दर दुसरे देशों की तुलना में अच्छी 

नई दिल्ली: RSS का "भविष्य का भारत" कार्यक्रम 17 से 19 सितम्बर तक, अभी तक नहीं दिया गया राहुल गांधी को न्यौता | माया-ममता व अखिलेश सहित 40 संगठनों को दिया गया न्यौंता

नई दिल्ली : हाईकोर्ट ने कहा, आरके पचौरी पर यौन शौषण के मामले में तय होगें आरोप | सन् 2005 में महिला ने टेरी प्रमुख पचौरी पर दर्ज कराई थी शिकायत

जेटली-माल्या मुलाकात विवाद : बीजेपी ने कांग्रेस की बात को नकारा ,कहा- 1 मार्च को जेटली सेन्ट्रेल हॉल गयें ही नहीं थें | राहुल गांधी ने पीएल पुनियां को चश्मदीद के तौर पर किया था पेश 

विराट कोहली ने पत्नी अनुष्का शर्मा की टी-शर्ट पहनी, सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो

विदेश-  

अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या पिछले साल की तुलना 5% घटी, अमेरिकी वाणिज्य रिपोर्ट में दावा | आठ साल में पहली बार हुआ हैं ऐसा

चीनी राजनयिक ने भारत-चीन के बीच भविष्य में बुलेट ट्रेन चलने का किया दावा, कहा- चीन के कुमजिन व कलकत्ता के बीच चलाने  का हैं प्लान

अमेरिका के दक्षिण-पूर्णी तट  हेरीकेन तूफान की चमेट में, ढाई सौ किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही हैं हवा

इस्लामाबाद: पाक के पूर्व PM नवाज की पत्नी कुलसूम का कल किया गया अन्तिम संस्कार, 5 दिन की पैरोंल पर बाहर आयें पति नवाज व बेटी मरियम

फिलीपींस: माखुट नामक चक्रवात का पांच लाख लोगों पर खतरा, 200 किमी प्रति घंटे की हैं रफ्तार

राजस्थान- 

जैसलमेर: देश में निर्मित्त हॉवित्जर तोप का पोकरण रेंज में किया गया सफल परिक्षण,  50 किमी तक हैं गोले दागने की क्षमता

भीलवाड़ा : विमंदित अधेड ने़ पहले फैक्ट्री के छत पर मचाया उत्पात, फिर कंटीले तार से फंदा लटकाकर दी जान | मौके पर पहुंची हमीरगढ़ पुलिस नहीं कर पाई शव की शिनाख्त

उदयपुर : पहली बार मोदी,बीजेपी व RSS आलोचक वामपंथी कवि सवाई सिंह को मिला प्रदेश का सबसे बड़ा मीरा पुरस्कार | बीजेपी सरकार के राज में राजस्थान साहित्य अकादमी के इस कदम को हर कोई सराहा रहा हैं

↔↔↔↔↔↔
🆓 आप अपना ई- मेल डालकर हमे free. में subscribe कर ले।ताकी आपके नई पोस्ट की सुचना मिल सके सबसे पहले।
⬇⏬subscribe करने के लिए इस पेज पर आगे बढ़ते हुये ( scrolling) website के अन्त में जाकर Follow by Email लिखा हुआ आयेगा । उसके नीचे खाली जगह पर क्लिक कर ई-मेल डाल के submit पर क्लिक करें।⬇⏬
फिर एक feedburn नाम का पेज खुलेगा।  वहां कैप्चा दिया हुआ होगा उसे देखकर नीचे खाली जगह पर क्लिक कर उसे ही लिखना है। फिर पास में ही " ♿complate request to subscription" लिखे पर क्लिक करना है।
उसके बाद आपको एक ई मेल मिलेगा। जिसके ध्यान से पढकर पहले दिये हुये लिंक पर क्लिक करना है।

फिर आपका 🆓 मे subscription.  पुर्ण हो जायेगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेन्ट बॉक्स मे टिप्पणी जरूर कीजिए।।साथ ही अपने दोस्तो के साथ पोस्ट को शेयर करना मत भूले। शेयर करने का सबसे आसान तरीका-
☑ सबसे पहले उपर साइट मे "ब्राउजर के तीन डॉट पर " पर क्लिक करें करें।
☑ फिर  "साझा करे या share करें पर " लिखा हुआ आयेगा। उस पर क्लिक कर लिंक कॉपी कर ले।
☑ फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखे आप्शन में जाकर लिंक पेस्ट कर दे।इसी तरह से whatsapp. पर कर दे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह