सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सिनेमा से सियासी जंग, लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस बनाएगी पीएम मोदी पर फिल्म

पूर्व प्रधानमंत्री (पीएम) डॉ. मनमोहन सिंह पर बनी, अनुपम खेर की फिल्म 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' 11 जनवरी को रिलीज होगी। भारत के इतिहास में यह पहली सियासी फिल्म हैं, जो राजनेता पर बनी हैं। लेकिन अब लग रहा है कि सिनेमा से सियासी जंग का युग शुरू होने जा रहा हैं। क्योकि कांग्रेस खेम्में से मोदी पर फिल्म बनाने के लिए मंथन चलने की खबर आ रही हैं।

the accesidental prime minister, congress reaction on the accesidental prime minister, movie on dr. manmohan singh
Poster of  'The Accidental Prime Minister' 

पंजाब में 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर पर बैन का कयास थम गया हैं। साथ ही अमृतसर पश्चिम से कांग्रेस विधायक राजकुमार वेरका ने प्रधानमंत्री पर फिल्म बनाने की बात कही है।  वहीं चर्चा यह भी चल रही है कि मुबंई कांग्रेस इकाई के दिग्गज नेता फिल्म-निर्माताओं के सम्पर्क में हैं। जल्द ही लोकसभा चुनाव के ऐन मौकें पर मोदी पर वार करने के लिए फिल्म रिलीज कर दी जाएगी। हांलाकि फिल्म के नाम को लेकर कई कयास लगाएं जा रहे हैं। कांग्रेसी समर्थक सोशल मीडिया पर मोदी पर तंज कसते हुए कई तरह नाम सुझाकर, सिनेमा-सियासी मुद्दें को हवा देने की कोशिश करते दिख रहे हैं। 'चौकीदार चोर' से लेकर 'झूठ का बादशाह' तक कई नाम कांग्रेसियों में चर्चा की विषय बना हुआ हैं। लेकिन 'जुमलेबाज' नाम सबसे टॉप पर चल हैं, जो सबसे ज्यादा सुझाया  जा रहा हैं।

यह हैं विवाद
'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' फिल्म संजय बारू कि किताब पर आधारित हैं। संजय बारू यूपीए की सरकार के समय पीएम डॉ. मनमोहन के मीडिया सलाहाकार रहे थे। इस फिल्म के ट्रेलर से ही साफ तौर से झलक रहा हैं कि यूपीए सरकार अंदर क्या चल रहा था और पीएम के तौर पर डॉ. मनमोहन सिंह क्या करना चाहते थे और किस तरीके पीएम की भूमिका निभा रहे थे; यह सब इस फिल्म में दिखाया गया हैं। स्वभाविक हैं कौनसी ऐसी पार्टी होगी ,जो अपने कार्यकाल की अंदर बात को पब्लिक डोमेन में आने देगीं। इसलिए  कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा शुरूआत में विरोध के सुर सुनाई दिए। कई कांग्रेसी नेताओं ने विरोधी बयान दिए और कहा- लोकसभा चुनाव को देखते हुए यह फिल्म बीजेपी का प्रोपैगेंडा हैं।
वहीं बीजेपी नेताओं/प्रवक्ताओं नें इन बातों को नकार दिया। फिलहाल मोदी पर फिल्म बनाने की बात को हवा देकर कांग्रेसियों का विरोध शांत पड़ता नजर आ रहा हैं।

जनहित मुद्दा यह है कि आखिर सियासत समय के साथ किस तरह बदल रही हैं। शायद ही किसी ने सोचा होगा ! हिन्दू-मुस्लिम, सांप्रदायिकता, फेंक न्यूज/सोशल-मीडिया से सिनेमा तक पहुंच जायेगी। जनता को इस नब्ज को बड़े ही ध्यान से पकड़ते हुए इन तमाम चीजों को समझना होगा, कि कौन कितना ठीक हैं तथा कौन कितना गलत। दुसरा पहलू यह भी हैं, पहले तो सिर्फ मीडिया और लेखकों पर ही राजनीति झुकाव का धब्बा लगता रहा हैं। लेकिन अब सिनेमा-जगत के हीरो-हीरोइन, निर्देशक-निर्माता भी इसमें शामिल हो जाएगें।
फिलहाल अब आगे यह देखना बड़ा ही दिलचस्प होगा कि मोदी पर फिल्म बनाकर किस तरह पलटवार करती हैं।
✍ अणदाराम बिश्नोई

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

युवाओं की असभ्य होती भाषा

दिल्ली जैसे मेट्रो शहर में भाग-दौड़ व रफ़्तार भरी जीवन शैली में चिड़चिड़ापन होना अब स्वभाविक हैं. लेकिन इसके साथ खासकर युवाओं में बोल-चाल की भाषा में परिवर्तन दिख रहा हैं. या यूं कहें आज की युवा पीढ़ी की आपस में बोल-चाल की भाषा असभ्य हो गई हैं. अगर आप मेरी तरह युवा हैं तो इस बात को आसानी से महसूस भी कर रहे होगें. और हो सकता हैं कि आप भी अपने दोस्तों की असभ्य और भूहड़ शब्दों से परेशान होगें. मजाक में मां-बहन से लेकर पता नहीं क्या-क्या आज की युवा पीढ़ी दोस्तों के साथ आम बोलचाल में इस्तेमाल करते हैं. खैर यह अलग बात हैं कि यह सिर्फ ज्यादातर दोस्तों के समूह में होता हैं.   लेकिन याद रखना , कहीं भी हो. आखिर भाषा की मर्यादा तो लांघी जा रही हैं. यह एक तरह से भारतीय संस्कृति को ठेस पहुंचाना हैं. अगर इसे सुधारने की पहल नहीं की गई तो आने वाले वक्त में यह एक बड़ी समस्या बन जाएगी. गंदे लफ़्ज की जड़ कहां यह  सवाल आपके मन में भी होगा. आख्रिर हम इतने असभ्य क्यों होते जा रहें हैं. यह बात कह सकते हैं कि महानगरों में तनाव व निरस भरी जिंदगी में व्यक्ति परेशानी के चलते अपनी एक तरह