सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अदनान सामी: अंतरराष्ट्रीय संगीतकार के रूप में प्रसिद्ध होने से लेकर मोदी के हिमायती बनने तक का सफर

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पद्म पुरस्कारों की घोषणा की।इन नामों में से एक अदनान सामी पर बहस छिड़ी है।
सामी का जन्म 1971 में हुआ। अदनान सामी के पिता पाकिस्तान वायु सेना में पायलट रहे है और बाद ने 15 देशों में पाकिस्तान के राजदूत रहे। अदनान सामी पाकिस्तान के नागरिक रहे है और साल 2015 में जब पाकिस्तान ने उनका वीजा नवीनीकरण का आवेदन खारिज किया तो उन्होंने भारतीय नागरिकता हासिल की।

Adnan swami, Adanan Swami
PC : Adanan Swami Insta.
10 साल की उम्र में उन्होंने लंदन में आर डी बर्मन कॉन्सर्ट में हिस्सा लिया। उन्हें क्या पता था कि इसके बाद उनकी जिंदगी एक अलग ही करवट लेने वाली थी। वहां उनकी मुलाकात आशा भोंसले से हुई और इसके बाद उन्होंने संगीत को अपना सब कुछ दे दिया।


अदनान सामी ने 15 साल की उम्र में अपना पहला गाना गाया जो साल 1986 में मध्य पूर्व का सबसे हिट गाना बना। उसके एक साल बाद उन्होंने यूनिसेफ के लिए गाना लिखा। ये गीत इथोपिया के लिए समर्पित था जो सदी के सबसे भयंकर सूखे से ग्रसित था। इसके लिए उन्हें विशेष पुरस्कार मिला। अमेरिका की एक सम्मानित मैग्जीन ने उनको नब्बे के दशक की कीबोर्ड की खोज कहा।

 एक समय वो भी आया जब उनका वजन 230 किलो तक पहुंच गया था लेकिन उन्होंने 16 महीने में उन्होंने करीब 170 किलो वजन कम किया था। तब भी उनकी बहुत चर्चा हुई थी।
हाल ही में उन्होंने सलमान खान अभिनीत 'बजरंगी भाईजान' में कव्वाली भी गाई। ' भर दो झोली मेरी ' गाने को पूरे विश्व में सराहा गया था। लेकिन व्यक्तिगत तौर पर मैं आपको ' उड़ी उड़ी उड़ी ' सुनने को कहूंगा।

विवाद क्यों?

अदनान सामी ने संगीत के क्षेत्र में बहुत सम्मान कमाया। तो ऐसा क्यों हो रहा की उनको पद्म श्री देने पर विवाद हो रहा है? वहीं दूसरी और कुछ लोग इसे भारत की ' धर्मनिर्पेक्षता ' का उदाहरण बता रहें है।

आइए देखते है कैसे रहे अदनान सामी के भारतीय नागरिक के रूप में 5 साल।

सबसे पहले हम जानते है ट्विटर पर अदनान सामी का प्रदर्शन।

' प्रदर्शन ' जी हां। आज सोशल मीडिया के जमाने में आधी राजनीति ट्विटर पर ही खेली जाती हैं। नेताओं को चाहे सूचना देनी हो या फिर किसी दूसरे नेता पर निशाना साधना हो, युवाओं को धर्म की राजनीति में बांटकर अपना वोट बैंक फैलाना हो या फिर किसी महिला नेता या अभिनेत्री को ट्रोल करना हो, ट्विटर सबके लिए आसान साधन है। 

जैसे ही अदनान सामी की आईडी @AdnanSamiLive खोलते है, उनकी भारतीय झंडे के साथ लगी तस्वीर आपका ध्यान नहीं भी खींचे तो आप उनका परिचय पढ़िए। 
 ' गर्व से भारतीय ' से उनका परिचय खत्म होता है। इसमें कोई गलत बात नहीं है कि उन्हें भारतीय होने पर गर्व है। मैंने खुद अपना परिचय कुछ इसी अंदाज में लिखा है। लेकिन उनके ट्वीट्स देखकर ऐसा लगेगा की ये किसी संगीतकार के नहीं बल्कि बीजेपी के किसी नेता के बयान हैं।
चाहें उनका धारा 370 को हटाने पर समर्थन देना, नागरिकता कानून को सही ठहराने पर उनके बयान या फिर प्रधानमंत्री मोदी के हर बयान का समर्थन करना, वो पाकिस्तानी आलोचकों के निशाने पर रहते है।
पाकिस्तानी ट्रोल उन्हें ' मेजर अदनान सामी ' कहते है और कहते हैं कि वो एक खुफिया मिशन पर है। लेकिन अदनान सामी भी उन ट्रोल पर जबरदस्त तरीके से पलटवार करते है।

बहुत सारे मौकों पर उन्होंने जेपी नड्डा के नेतृत्व वाली पार्टी को खुले आम सलाह दी और बिन मांगी शुभेच्छा भी साथ में दे डाली।

पिछले साल आम चुनावों से पहले उन्होंने ट्वीट किया जिसमें उन्होंने मोदी सरकार को यूपी में महागठबंधन से चेताया था और दूसरी बार जीतने के लिए जिताऊ उम्मीदवार चुनने की सलाह दी।

2013 में अदनान सामी पर टैक्स ना चुकाने का आरोप बीजेपी लगा चुकी है लेकिन भारतीय नागरिक बनने के बाद उन्होंने केवल प्रधानमंत्री का महिमामंडन किया है।

क्या सही मायनों में वे पद्म श्री के हकदार है?
यदि इसका उत्तर सटीक दिया जाए तो होगा, हां ।
अदनान सामी संगीत में बहुत योगदान दिया है। लेकिन ये बात भी कुछ हद तक सही है कि उन्होंने सभी उपलब्धियां पाकिस्तानी नागरिक होते हुए हासिल की। और संगीत में राहत फतेह अली खान शाहब ने भी भारत में काम करते हुए शोहरत और सम्मान पाया। इस तर्क से वो भी पद्म पुरस्कार के हकदार थे।

लेकिन पद्म श्री पुरस्कार मिलने में उनके राजनैतिक विचारों का भी योगदान है। यदि वो राजनैतिक रूप से तटस्थ होते तो शायद बीजेपी के नेतृत्व वाली वाली सरकार उन्हें पुरस्कार देने में हिचकिचाती।

ये एक कटु सत्य है कि भारत में पुरस्कार मिलने में हमेशा ही राजनैतिक हस्तक्षेप होता रहा है। ये अतीत में कांग्रेस नीत सरकार में भी होता था और अभी मोदी सरकार में भी हो रहा है।

पिछले साल ' उरी: सर्जिकल स्ट्राइक ' को नेशनल अवार्ड मिला। फिल्म नेशनल अवार्ड के लायक थी लेकिन ' अंधाधुन ' सही मायने में श्रेष्ठ फिल्म थी। आदित्य धर निर्देशित फिल्म को  राष्ट्रवाद का सहारा मिला और इसी कारण इसे ' अंधाधुन ' के बराबर दर्जा मिला।

लेकिन आज की राजनीति मुद्दे और नीति आधारित ना होकर इस बात पर आधारित है कि कौन बहुसंख्यकवाद के अगुवा के रूप में सामने आता है।

आज राजनीति चेहरे कि लड़ाई हो गई है। जब जब भारत को कोई सशक्त नेता मिला है, चाहे वो इंदिरा गांधी हो या नरेंद्र मोदी, विपक्ष को हमेशा चेहरे के लिए मशक्कत करनी पड़ी है। ऐसा इसीलिए हुआ क्योंकि कभी परिवारवाद आड़े आता है तो कभी जातिवाद। ये ही हमारी देश के नागरिक होते हुए विफलता है कि हम कभी इन मुद्दों से अलग हो ही नहीं पाए। हमारे देश ने आर्थिक और सामरिक क्षेत्र में काफी सफलता हासिल की है लेकिन सामाजिक स्तर पर हम उतना विकास नहीं कर पाए जितना  हमारे देश के नीति निर्माताओं ने आजादी के समय आस लगाई होगी।
 - हिमांशु यादव

(नोट : यह लेखक के अपने विचार हैं। यह आलेख एक गेस्ट पोस्ट हैं। DelhiTV.in पर गेस्ट पोस्ट के लिए मेल - delhitv@yahoo.com)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

कोरोना काल में सिनेमा घर बंद हैं। सिनेमा घर की जगह अब ओटीटी प्लेटफॉर्म ने ली हैं। जहां वेब सीरीज की भरमार है। कई फिल्मों भी ओटीटी पर रिलीज हुई हैं। लेकिन कंटेंट पर कोई रोक टोक नहीं हैं। जिसका फायदा ओटीटी प्लेटफॉर्म जमकर उठा रहे हैं। वेब सीरीज के नाम पर गंदी कहानियां परोसी जा रही हैं। जो समाज को किसी और छोर पर धकेल रही हैं।  हाल ही में ट्राई यानी टेलीफोन रेगुलेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा हैं कि ओटीटी प्लेटफॉर्म जो परोस रहे हैं, उसे परोसने दो। सरकार इसमें ताक झांक ना करें।  मतलब साफ है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के कंटेंट पर कोई सेंसरशिप नहीं हैं और ट्राई फ़िलहाल इस पर लगाम कसने के मूड में नहीं हैं। कोरोना काल से पहले भी वेब सीरिज काफी लोकप्रिय थी। लॉकडाउन के दौर में और ज्यादा दर्शक ओटीटी प्लेटफॉर्म की तरफ आकर्षित हो गए। ओटीटी प्लेटफॉर्म का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है। अब तो फिल्में भी ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो रही हैं। हाल ही रिलीज हुई आश्रम समेत कई फ़िल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया।  लेकिन कोई रोक टोक नहीं होने से ओटीटी पर आने वाली वेब सीरीज और फिल्मों का कंटेंट सवालों के घेरे में रहत

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प