सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नाम बदलने से बदल जाएगी सूरत ?

आपने यह तो सुना होगा- नाम में क्या रखा है.... तो फिर क्यों सरकारें नाम बदलने में लगी है. यह सवाल एक नागरिक के मन में उठना चाहिए. क्योंकि 2018 में योगी सरकार ने उत्तरप्रदेश के शहर इलाहाबाद का नाम बदल दिया. इलाहाबाद से प्रयागराज कर दिया. अब महाराष्ट्र की महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार औरंगाबाद का नाम बदलने जा रही है. हालांकि कांग्रेस ने प्रस्ताव का विरोध करने को ठाना है.

सन् 1995 में भी शिवसेना ने औरंगाबाद का नाम बदलने की मांग की थी. अब करीब 2 दशकों बाद शिवसेना के मुख्यमंत्री है. शिवसेना की मुखपत्र सामना में एक आलेख प्रकाशित हुआ है. जिसमें उल्लेख है कि जल्द ही सीएम उद्धव ठाकरे, औरंगाबाद का नाम बदलने वाले है. औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर किया जाएगा. शिवसेना का कहना है कि मुगल सेक्युलर शासक नहीं थे. 

लग रहा है नाम बदल कर शिवसेना हिंदुओं का दिल जीतना चाहती है. ताकि हिंदू वोट बैंक में खोई हुई साख को वापस पाया जाया. 

एक समय था. शिवसेना में BJP से ज्यादा हिंदू समर्थक जुटते थे. लेकिन जब से शिवसेना ने कांग्रेस के साथ गठबंधन का दामन थामा है. तब से शिवसेना से हिंदुओं का लगाव बाकी राज्यों में कम हुआ है.अब यह तो वक्त ही बताएगा कि शिवसेना इसमें कितना कारगर साबित होती है. हालांकि एक बार फिर से नाम बदलने के मुद्दे को सुर्खियों में ला दिया है.

2018 में इलाहाबाद, प्रयागराज हो गया. तो क्या नाम बदलने शहर की सूरत भी बदली ? य़ा फिर योगी सरकार ने सिर्फ हिदूं वोट बैंक को खुश करने के लिए नाम बदला !... इस पर वहां पर जाकर स्थानीय मीडिया/ पत्रकारों को एक रिपोर्ट तैयार करनी चाहिए. खैर, विकास का दावा तो हर सरकार करती है. लेकिन आमतौर पर हकीकत कुछ और ही होती है. 

बात यह है कि सूरत कितनी बदली है.... नाम तो कोई भी बदल सकता है. गरीब, बेरोजगार को नाम बदलने से क्या मतलब... क्या एक गरीब के हालात नाम बदलने से बदल जाएंगे ?... क्या बेरोजगारों को नाम बदलने से उस शहर में रोजगार मिल जाएगा ?.... डर तो इस बात का है कि कहीं सत्ता भोगी सरकारें, गरीब वर्ग का नाम अमीर वर्ग ना कर दे. 

संभाजीनगर ही क्यों ?

1653 में शाहजहां ने अपने बेटे औरंगजेब को दक्कन की जिम्मेदारी सौंपी थी. औरंगजेब ने फतेहनगर को अपनी राजधानी बनाया और इसका नाम औरंगाबाद कर दिया था. वैसे औरंगाबाद का प्राचीन नाम खड़की था. पहले यह एक खड़की गांव हुआ करता था. अब शिवसेना इसका नाम संभाजी राजे भोसले के उपर संभाजीनगर करने जा रही है. संभाजी राजे भोसले, छत्रपति शिवाजी महाराज के उत्तराधिकारी थे. 

मराठों के सबसे बड़ा दुश्मन मुगल बादशाह औरंगजेब का सफाया करने में संभाजी राजे भोसले का अहम योगदान रहा. इतना ही नहीं, पराक्रम की वजह से परेशान हो कर औरंगजेब ने छत्रपती संभाजी को पकड़े की कसम तक खाई थी. कसम थी, अपना किमोंश सर पर नहीं चढ़ाने की... तब तक... जब तक संभाजी राजे भोसले को पकड़ नहीं पाए. लेकिन 11 मार्च 1689 को क्रूर शासक औरंगजेब ने छत्रपति संभाजी महाराज की हत्या कर दी.

विरोध इस बात का नहीं है कि नाम क्यों बदला जा रहा है.  चिंता तब बढ़ जाती है, जब सरकारें सिर्फ नाम बदलकर वोट बैंक को मजबूत करती है. विकास सिर्फ दावों में ही रह जाता है. 

औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर होना चाहिए. इसका विरोध करना...मतलब हिंदुस्तानी के लिए दिल में कोई जगह नहीं होना. आखिर क्यों एक क्रूर और पापी शासक नाम भारत में हो. 

लेकिन जिस तरह से नाम बदलने का ट्रेंड चल पड़ा है... कहीं यह विकास कार्यों की जगह ना ले लें. खैर यह तो वक्त ही बताएगा... सरकारों को शहर के नाम के साथ सूरत बदलने पर भी ध्यान देना चाहिए. जब-जब भारत में किसी शहर का नाम बदला जाएंगा... तब-तब यह सवाल जरूर उठेगा.... क्या नाम बदलने से बदल जाएगी सूरत ?

✍️ अणदाराम बिश्नोई

( कृपया इस लेख को फेसबुक और वॉट्सएप के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर कीजिए। शेयर करने के लिए इस लिंक को कॉपी कीजिए और लोगों को भेजिए। कॉपी करने के लिए लिंक : https://www.delhitv.in/2021/01/Row%20over%20renaming%20Aurangabad%20as%20Sambhajinagar.html?m=1

 )

सोशल मीडिया से जुड़े: 
• Instagram : https://www.instagram.com/andaram_bishnoi

• Twitter : https://www.twitter.com/andaram_bishnoi

• Facebook : https://www.facebook.com/AndaramBishnoiOffical/

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Thanks to Visit Us & Comment. We alwayas care your suggations. Do't forget Subscribe Us.
Thanks
- Andaram Bishnoi, Founder, Delhi TV

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आधुनिकता की दौड़ में पीछे छूटते संस्कार

किसी भी देश के लिए मानव संसाधन सबसे अमूल्य हैं। लोगों से समाज बना हैं, और समाज से देश। लोगों की गतिविधियों का असर समाज और देश के विकास पर पड़ता हैं। इसलिए मानव के शरीरिक, मानसिक क्षमताओं के साथ ही संस्कारों का होना अहम हैं। संस्कारों से मानव अप्रत्यक्ष तौर पर अनुशासन के साथ कर्तव्य और नैतिकता को भी सीखता हैं। सबसे बड़ी दिक्कत यह हैं कि स्कूल और कॉलेजों में ये चीजें पाठ्यक्रम के रूप में शामिल ही नहीं हैं। ऊपर से भाग दौड़ भरी जिंदगी में अभिभावकों के पास भी इतना समय नहीं हैं कि वो बच्चों के साथ वक्त बिता सके। नतीजन, बच्चों में संस्कार की जगह, कई और जानकारियां ले रही हैं। नैतिक मूल्यों को जान ही नहीं पा रहे हैं।  संसार आधुनिकता की दौड़ में फिर से आदिमानव युग की तरफ बढ़ रहा हैं। क्योंकि आदिमानव भी सिर्फ भोगी थे। आज का समाज भी भोगवाद की तरफ अग्रसर हो रहा हैं। पिछले दस सालों की स्थिति का वर्तमान से तुलना करे तो सामाजिक बदलाव साफ तौर पर नज़र आयेगा। बदलाव कोई बुरी बात नहीं हैं। बदलाव के साथ संस्कारों का पीछे छुटना घातक हैं।  राजस्थान के एक जिले से आई खबर इसी घातकता को बताती हैं। आधुनिकता में प

अच्छे दिन को तरसता किसान

कृषि  को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता हैं,इस तरह की जुमले बाजी करके नेतागण वोट बँटोरने में कामयाब तो हो जाते हैं। परन्तु शुरूआत से ही छोटे,गरीब व मंझोले किसानो को दर-दर  कई समस्याओ से सामना करना पड़ रहा हैं।सरकार के द्वारा किसान-हित में की गई घोषणा-बाजी  की  कमि नहीं हैं, कमि है तो जमीनी स्तर के काम की  । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चलाई गई ' प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना'  भी कोई खास असर नही दिखा पाई,उल्टे किसानो को लुट कर प्राईवेट बीमा कंपनियो को लाभ पहुचाया गया। किसानो को बीमा कवर के रूप में छत्तीसगढ़ में किसी को 20 रूपये तो किसी को 25 रूपये के चैंक बांटे गये।   वही हरियाणा के किसानो ने सरकार पर आरोप लगाया कि फसल बीमा योजना के नाम पर बिना बतायें ,किसानो के खाते से 2000 से 2500 रूपये तक काटे गये। लेकिन वापस मिले 20-25 रूपये । फसल की उपज लागत ,फसल की आय सें अधिक होती हैं। जिसके कारण दो वक्त की रोटी पाना भी मुश्किल होता हैं। राजस्थान के जोधपुर जिले के रणीसर ग्राम  में रहने वाले किसान सुखराम मांजू  बताते है, "पिछली बार जीरें की फसल खराब मौंसम की वजह से

गरीब युवाओं से आह्वान: बड़ा करना है तो शिक्षा बड़ा हथियार

भारत की आत्मा गांवों में निवास करती है, महात्मा गांधी के इस कथन का महत्व तब बढ़ जाता है. जब गांवों से टैलेंट बाहर निकलकर शहर के युवाओं को पछाड़ते हुए नए मुकाम हासिल करते है. ऐसी कहानियां उन लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन जाती, जो पैदा तो भले ही गरीबी में हुए हो. लेकिन हौसलों से आसमान छूना चाहते है. यब बातें सुनने जितनी अच्छी लगती है, करके दिखाने में उतनी ही कठिनाइयों को सामना करना पड़ता है. सपनों को हकीकत में बदलने के लिए जुनून, धैर्य और लगन जरूरी है.   (P. C. - Shutterstock)  सोचिए एक गरीब परिवार में जन्मे युवा किन-किन कठिनाइयों से गुजरता होगा. गरीबी में पैदा होना किसी की गलती नहीं है. गरीबी में पैदा हुए युवाओं को शिक्षा से वंचित नहीं होना चाहिए. शिक्षा ही वो सबसे बड़ा हथियार है. जिससे गरीबी रेखा को लांघकर समाज कल्याण का काम कर सकते है. परिवार को ऊपर उठा सकते है. दुनिया के सबसे बड़े अमीरों में शुमार बिल गेट्स का यह वक्तव्य किसी प्रेरणा से कम नहीं है. बिल गेट्स कहते है कि  '' अगर गरीब पैदा हुए तो आपकी गलती नहीं, लेकिन गरीब मरते हो तो आपकी गलती है'' भारत में करीब 32 फीस