नाम बदलने से बदल जाएगी सूरत ?

आपने यह तो सुना होगा- नाम में क्या रखा है.... तो फिर क्यों सरकारें नाम बदलने में लगी है. यह सवाल एक नागरिक के मन में उठना चाहिए. क्योंकि 2018 में योगी सरकार ने उत्तरप्रदेश के शहर इलाहाबाद का नाम बदल दिया. इलाहाबाद से प्रयागराज कर दिया. अब महाराष्ट्र की महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार औरंगाबाद का नाम बदलने जा रही है. हालांकि कांग्रेस ने प्रस्ताव का विरोध करने को ठाना है.

सन् 1995 में भी शिवसेना ने औरंगाबाद का नाम बदलने की मांग की थी. अब करीब 2 दशकों बाद शिवसेना के मुख्यमंत्री है. शिवसेना की मुखपत्र सामना में एक आलेख प्रकाशित हुआ है. जिसमें उल्लेख है कि जल्द ही सीएम उद्धव ठाकरे, औरंगाबाद का नाम बदलने वाले है. औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर किया जाएगा. शिवसेना का कहना है कि मुगल सेक्युलर शासक नहीं थे. 

लग रहा है नाम बदल कर शिवसेना हिंदुओं का दिल जीतना चाहती है. ताकि हिंदू वोट बैंक में खोई हुई साख को वापस पाया जाया. 

एक समय था. शिवसेना में BJP से ज्यादा हिंदू समर्थक जुटते थे. लेकिन जब से शिवसेना ने कांग्रेस के साथ गठबंधन का दामन थामा है. तब से शिवसेना से हिंदुओं का लगाव बाकी राज्यों में कम हुआ है.अब यह तो वक्त ही बताएगा कि शिवसेना इसमें कितना कारगर साबित होती है. हालांकि एक बार फिर से नाम बदलने के मुद्दे को सुर्खियों में ला दिया है.

2018 में इलाहाबाद, प्रयागराज हो गया. तो क्या नाम बदलने शहर की सूरत भी बदली ? य़ा फिर योगी सरकार ने सिर्फ हिदूं वोट बैंक को खुश करने के लिए नाम बदला !... इस पर वहां पर जाकर स्थानीय मीडिया/ पत्रकारों को एक रिपोर्ट तैयार करनी चाहिए. खैर, विकास का दावा तो हर सरकार करती है. लेकिन आमतौर पर हकीकत कुछ और ही होती है. 

बात यह है कि सूरत कितनी बदली है.... नाम तो कोई भी बदल सकता है. गरीब, बेरोजगार को नाम बदलने से क्या मतलब... क्या एक गरीब के हालात नाम बदलने से बदल जाएंगे ?... क्या बेरोजगारों को नाम बदलने से उस शहर में रोजगार मिल जाएगा ?.... डर तो इस बात का है कि कहीं सत्ता भोगी सरकारें, गरीब वर्ग का नाम अमीर वर्ग ना कर दे. 

संभाजीनगर ही क्यों ?

1653 में शाहजहां ने अपने बेटे औरंगजेब को दक्कन की जिम्मेदारी सौंपी थी. औरंगजेब ने फतेहनगर को अपनी राजधानी बनाया और इसका नाम औरंगाबाद कर दिया था. वैसे औरंगाबाद का प्राचीन नाम खड़की था. पहले यह एक खड़की गांव हुआ करता था. अब शिवसेना इसका नाम संभाजी राजे भोसले के उपर संभाजीनगर करने जा रही है. संभाजी राजे भोसले, छत्रपति शिवाजी महाराज के उत्तराधिकारी थे. 

मराठों के सबसे बड़ा दुश्मन मुगल बादशाह औरंगजेब का सफाया करने में संभाजी राजे भोसले का अहम योगदान रहा. इतना ही नहीं, पराक्रम की वजह से परेशान हो कर औरंगजेब ने छत्रपती संभाजी को पकड़े की कसम तक खाई थी. कसम थी, अपना किमोंश सर पर नहीं चढ़ाने की... तब तक... जब तक संभाजी राजे भोसले को पकड़ नहीं पाए. लेकिन 11 मार्च 1689 को क्रूर शासक औरंगजेब ने छत्रपति संभाजी महाराज की हत्या कर दी.

विरोध इस बात का नहीं है कि नाम क्यों बदला जा रहा है.  चिंता तब बढ़ जाती है, जब सरकारें सिर्फ नाम बदलकर वोट बैंक को मजबूत करती है. विकास सिर्फ दावों में ही रह जाता है. 

औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर होना चाहिए. इसका विरोध करना...मतलब हिंदुस्तानी के लिए दिल में कोई जगह नहीं होना. आखिर क्यों एक क्रूर और पापी शासक नाम भारत में हो. 

लेकिन जिस तरह से नाम बदलने का ट्रेंड चल पड़ा है... कहीं यह विकास कार्यों की जगह ना ले लें. खैर यह तो वक्त ही बताएगा... सरकारों को शहर के नाम के साथ सूरत बदलने पर भी ध्यान देना चाहिए. जब-जब भारत में किसी शहर का नाम बदला जाएंगा... तब-तब यह सवाल जरूर उठेगा.... क्या नाम बदलने से बदल जाएगी सूरत ?

✍️ अणदाराम बिश्नोई

( कृपया इस लेख को फेसबुक और वॉट्सएप के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर कीजिए। शेयर करने के लिए इस लिंक को कॉपी कीजिए और लोगों को भेजिए। कॉपी करने के लिए लिंक : https://www.delhitv.in/2021/01/Row%20over%20renaming%20Aurangabad%20as%20Sambhajinagar.html?m=1

 )

सोशल मीडिया से जुड़े: 
• Instagram : https://www.instagram.com/andaram_bishnoi

• Twitter : https://www.twitter.com/andaram_bishnoi

• Facebook : https://www.facebook.com/AndaramBishnoiOffical/

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेब सीरीज की 'गन्दगी', 'उड़ता' समाज

अच्छे दिन को तरसता किसान

पटरी पर लौट आया प्याज !